रामनवमी का त्यौहार


रामनवमी का त्यौहार भगवान श्री राम के जन्मोस्तव के रूप में बढ़ी धूम धाम से सम्पूर्ण भारत में मनाया जाता है | यह दिन हर साल चैत्र महीने (March-April)) में नवमी को आता है | सनातन धर्मी राम भक्त बड़ी उत्सुकता से इस दिन श्री राम के जन्म का उत्सव मनाते है | भगवान श्री राम अपने मानवीय गुणों से सभी हिन्दुओ के लिए हमेशा एक आदर्श देवता रहे है | वे सबसे अच्छे पुत्र , पति , राजा और पिता के रूप में देखे जाते है | श्री राम नवमी त्यौहार

रामनवमी पर कैसे करे पूजा जाने :

रामनवमी के दिन श्री राम भक्त भगवान प्रभु के लिए व्रत रखते है | श्री राम के मंत्रो का उच्चारण करते है और उनके भजन सुनते और गाते है | कुल मिलाकर पूरा दिन राम भक्ति में लगे रहते है | शाम को राम मंदिर में या अपने घर पर राम दरबार को सजाते है और प्रभु के भोग लगाकर अपना व्रत खोलते है | “राम लल्ला की जय “ यही सभी भक्तो के जुबान पर होता है | श्री राम की पूजा के साथ साथ पुरे दरबार की पूजा की जाती है जिसमे श्री राम , उनकी धर्मपति माँ सीता उनके भाई लश्मन , भरत , शत्रुघ्न और श्री हनुमान है |

रामनवमी के दिन क्या करते है राम भक्त :

सूर्योदय से पूर्व उठकर राम भक्त नित्य कर्म से मुक्त होकर नहा लेते है | फिर या तो श्री राम मंदिर में जाकर या फिर अपने घर के मंदिर में राम प्रतिमा में भगवान के रूप को देखकर उन्हें जन्मदिवस की शुभकामनाये देते है | फिर पुष्प माला से श्रृंगार करके आरती करते है और भगवान श्री राम के महा मंत्रो से जयजयकार करते है | राम भक्तो के द्वारा पुरे दिन उपहास रखा जाता है | शाम को श्री राम जी का जुलुस और शोभा यात्रा निकाली जाती है |

रामनवमी के त्यौहार पर रथ यात्राये :

अयोध्या में जन्मे श्री राम के इस जन्मदिवस पर देश भर में श्री राम और उनके भाई लखन , माँ जानकी और हनुमानजी की रथ यात्राये गाजे बाजे के साथ निकाली जाती है | जयकारो की गूंज के साथ हर जगह भक्त टकटकी लगाये इन शोभायात्राओ का आनंद लेते है |

राम नवमी 2019 (२०१९ ) में किस तारीख को आएगी :

वर्ष 2019 में श्री रामजन्मोत्सव राम नवमी 14 April रविवार ( १४ अप्रैल ) के दिन को मनाई जाएगी |

पूजन का मुहर्त : सुबह 11:05 से दोपहर 01:37 तक


सोशल वेबसाइट पर शेयर करे

Twitter Facebook Google+ Whatsapp LinkedIn

Copyright © 2016 English version  -- All Rights Reserved.

Other Hindu God Websites

Sanatan Dharma    | Goddess Durga    | Sai Baba Of Shirdi    | Lord Ganesha    | Khatu Shyam ji