श्री पवनपुत्र हनुमान बालाजी का परिवार



महावीर हनुमान को भगवान शिव का ११वा रूद्र अवतार कहा जाता है और वे प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त है |

श्री हनुमान जी का परिवार

हनुमान जी के माता पिता :



हनुमान जी वानर जाति में जन्म लिए | उनकी माता का नाम अंजना ( अंजनी ) था और उनके पिता वानरराज केशरी थे | इसी कारण इन्हे अन्जनाय केसरीनंदन आदि नामो से पुकारा जाता है |

पढ़े : हनुमान जी के प्रसिद्ध मंदिर
पढ़े : हनुमान चालीसा पाठ हिन्दी में

हनुमान जो को पवन पुत्र भी कहते है :

हनुमान भक्त श्री हनुमानजी को पवनपुत्र , मारुतिनंदन के नाम से भी पुकारते है . इसके पीछे यह कथा है |
ऐसा कहा जाता है की हनुमान जी के जन्म के पीछे पवन (हवा) का भी योगदान था | हुआ ऐसा की एक बार अयोध्या के राजा दशरथ अपनी पत्नियों के साथ हवन कर रहे थे | यह हवन पुत्र प्राप्ति के लिए किया जा रहा था | हवन समाप्ति के बाद गुरु ने प्रसाद की खीर तीनो रानियों में थोड़ी थोड़ी बाट दी | खीर का एक भाग एक कौआ अपने साथ एक जगह ले गया जहा अंजनी माँ तपस्या कर रही थी | यह सब भगवान शिव और वायु देव के इच्छा अनुसार हो रहा था | तपस्या करती अंजना के हाथ में जब खीर आई तो वो उसे शिवजी का प्रसाद समझ कर ग्रहण कर लिया | प्रसाद की वजह से हनुमान जी का जन्म हुआ |


सोशल वेबसाइट पर शेयर करे

Twitter Facebook Google+ Whatsapp LinkedIn

Copyright © 2016 English version  -- All Rights Reserved.

Other Hindu God Websites

Sanatan Dharma    | Goddess Durga    | Sai Baba Of Shirdi    | Lord Ganesha    | Khatu Shyam ji